coal mining

2026 तक कोयले की मांग में होगी 2.3% की कमी: आईईए रिपोर्ट

मौजूदा नीतियों के आधार पर, आईईए की रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि 2026 तक कोयले की मांग में कमी होगी, लेकिन यदि अंतर्राष्ट्रीय जलवायु लक्ष्यों को पूरा करने की दिशा में तेजी से गिरावट लाने की जरूरत है तो इसके लिए और अधिक प्रयास करने होंगे।

क्या भविष्य की नौकरियों के लिए तैयार हैं कोयला समृद्ध क्षेत्रों के युवा

झारखंड देश को ऊर्जा और खनिज देने वाले राज्यों में अग्रणी है, लेकिन आज यहां की युवा पीढ़ी अपने भविष्य को लेकर फिक्रमंद है।

बदलते नियम और खदानों का विस्तार: जंगलों पर है किसका अधिकार?

आदिवासी बहुल होने के बाद भी बरका सयाल अपने कोयला खनन के लिए अधिक जाना जाता है। विशेष सरकारी रियायतों के कारण खनन के विस्तार के बाद यह पहचान और सुदृढ़ हो गई है — जो भारत की एक परेशान कर देने वाली वास्तविकता को दर्शाता है।