फेम-III में चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर बढ़ाने पर भी ध्यान दिया जाएगा।

बजट में ईवी के लिए मिल सकता है 12,000 करोड़ का समर्थन

अंतरिम बजट 2024 में वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण इलेक्ट्रिक मोबिलिटी के लिए 12,000 करोड़ रुपए तक के पैकेज का ऐलान कर सकती हैं

इसके पहले फास्टर एडॉप्शन एंड मैन्युफैक्चरिंग ऑफ इलेक्ट्रिक व्हीकल्स (फेम) II योजना के अंतर्गत 10,000 करोड़ रुपए का समर्थन दिया गया था। यह योजना इस साल 31 मार्च को समाप्त हो रही है। इस अंतरिम बजट में फेम-III के तहत दी जाने वाली इस नई सब्सिडी का कार्यकाल दो साल का होगा।

हालांकि, सूत्रों के अनुसार नई योजना के तहत प्रति वाहन सब्सिडी फेम-II की तुलना में कम हो सकती है।

इस योजना में इलेक्ट्रिक बसों को समर्थन दिया जाएगा। फेम-III के तहत ई-बसों के लिए आवंटन बढ़ाकर 4,500 करोड़ रुपए किए जाने की संभावना है, फेम-II में यह 3,209 करोड़ रुपए था।

इसके अलावा ईवी इकोसिस्टम को बेहतर बनाने, चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर बढ़ाने और बैटरी की कीमतें घटाने पर भी ध्यान दिया जाएगा

पुराने वाहनों को ईवी में बदलने की पहल का समर्थन कर सकती है सरकार

एक रिपोर्ट में कहा गया है कि सरकार पुराने वाहनों को स्क्रैप करने के बजाय उन्हें इलेक्ट्रिक वाहनों में बदलने के लिए इंसेंटिव या समर्थन पर विचार कर सकती है। मैनेजमेंट कंसल्टेंसी फर्म प्राइमस पार्टनर्स और ईटीबी (यूरोपीय व्यापार और प्रौद्योगिकी केंद्र) की संयुक्त रिपोर्ट के अनुसार, अंतर्दहन इंजन (आईसीई) वाहनों को रेट्रोफिटिंग के माध्यम से इलेक्ट्रिक वाहनों में परिवर्तित करना एक बड़ी चुनौती है।

हालांकि रिपोर्ट में कहा गया है कि सरकारी समर्थन और उद्योगों में आपसी सहयोग और सार्वजनिक भागीदारी से इन चुनौतियों से प्रभावी ढंग से निपटा जा सकता है। भारत की वाहन स्क्रैपेज नीति का उद्देश्य पुराने और अनुपयुक्त वाहनों को चरणबद्ध तरीके से हटाना और उनके स्थान पर नए और अधिक पर्यावरण-अनुकूल वाहनों को लाना है।

यह नीति केवल वाहनों की आयु पर ही नहीं बल्कि उनकी फिटनेस और उत्सर्जन स्तर सहित विभिन्न कारकों पर केंद्रित है।

नई तकनीकों से टेस्ला का मुकाबला कर रहे हैं चीनी ईवी निर्माता

चीन के इलेक्ट्रिक कार मार्केट में कड़ी प्रतिस्पर्धा के कारण स्थानीय वाहन निर्माता फैंसी तकनीक वाले वाहन लेकर आ रहे हैं। ऐसी तकनीकें जो टेस्ला ने अभी तक चीन में बिकने वाली अपनी कारों में इस्तेमाल नहीं की हैं। और कई मामलों में चीनी निर्माता यह उन्नत तकनीकें टेस्ला से कम कीमतों पर भी उपलब्ध करा रहे हैं।

अब कंपनियां केवल ड्राइविंग रेंज पर ही प्रतिस्पर्धा नहीं कर रही हैं। बल्कि वह नए मॉडलों में कई तरह की सुविधाएं दे रही हैं: जैसे इन-कार प्रोजेक्टर, रेफ्रिजरेटर और ड्राइवर-असिस्ट।

चीन में टेस्ला की कारें इन एक्सेसरीज़ के साथ उपलब्ध नहीं हैं, और अभी यह केवल ड्राइवर-असिस्ट तकनीक के सीमित संस्करण के साथ आती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.