मार्च से मई के बीच तापमान सामान्य से अधिक रहने की संभावना है। फोटो: Pixabay.com

अल निनो प्रभाव, इस साल होगी फिर रिकॉर्डतोड़ गर्मी

मौसम विभाग (आईएमडी) ने चेतावनी दी है कि भारत में इस साल गर्मियों की शुरुआत अधिक तापमान के साथ, होगी क्योंकि अल नीनो की स्थिति कम से कम मई तक बनी रहने की संभावना है।

आईएमडी ने भविष्यवाणी की कि देश के पूर्वोत्तर प्रायद्वीपीय हिस्सों — तेलंगाना, आंध्र प्रदेश और उत्तरी कर्नाटक — और महाराष्ट्र और ओडिशा के कई हिस्सों में हीटवेव वाले दिनों की संख्या सामान्य से अधिक हो सकती है।

मार्च में सामान्य से अधिक बारिश (29.9 मिमी के लॉन्ग-पीरियड एवरेज से 117 प्रतिशत से अधिक) होने की संभावना है।

विभाग ने कहा कि मार्च से मई की अवधि में देश के अधिकांश हिस्सों में अधिकतम और न्यूनतम तापमान सामान्य से अधिक रहने की संभावना है। हालांकि मार्च में हीटवेव की स्थिति नहीं रहेगी। 

आईएमडी प्रमुख मृत्युंजय महापात्र ने कहा कि भारत में फरवरी में औसत न्यूनतम तापमान 14.61 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो इसे 1901 के बाद दूसरी सबसे गर्म फरवरी बनाता है। 

उन्होंने यह भी कहा कि पूरे गर्मी के मौसम के दौरान अल निनो की स्थिति बनी रह सकती है, और उसके बाद स्थिति सामान्य हो जाएगी।

अल नीनो प्रक्रिया में मध्य प्रशांत महासागर का पानी गर्म हो जाता है, जिसके कारण हवाओं के पैटर्न में बदलाव होता है और अधिकांश उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों की जलवायु प्रभावित होती है। अल निनो के दौरान तापमान सामान्य से अधिक रहता है और मानसून के दौरान सामान्य से कम बारिश होती है।

इसके विपरीत, ला नीना की स्थिति में आम तौर पर भारत में अच्छा मानसून देखा जाता है। आईएमडी ने कहा कि इस साल मानसून सीज़न के दूसरे भाग तक ला नीना की स्थिति देखे जाने की संभावना है।

फरवरी में कुल आठ पश्चिमी विक्षोभों ने पश्चिमी हिमालयी राज्यों के मौसम को प्रभावित किया। इनमें से छह सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ थे जिनके कारण उत्तर और मध्य भारत के मैदानी इलाकों में बारिश और ओलावृष्टि हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.