पर्यावरण अनुकूल बने भारत का आर्थिक विकास

पिछले पाँच महीनों में कोविड महामारी के कारण हुई जन-धन आपदा भारत के आधुनिक इतिहास में पहले कभी नहीं देखी गयी।

सभी देश,कॉरपोरेशन ,कम्यूनिटीज़ आदि इस आपदा से उबरने के लिए जूझ रहे हैं।लॉकडाउन के चलते देश जन-धन,रोज़गार की क्षति और गिरते जीवन मूल्य से निपटने के लिए खरबों डालर के आर्थिक पैकेज तैयार कर रहे हैं। अर्थशास्त्रियों के अनुसार 17 अर्थव्यवस्थाओं के लगभग US $3.5 ट्रिलियन का अब तक का यह सबसे बड़ा निवेश प्रकृति पर स्थायी प्रभाव डालने वाले क्षेत्रों को गति देगा।

ये निवेश इन क्षेत्रों को मजबूती देते हुए समानांतर जलवायु और जैव विविधता संकट में उन्हें स्थिरता और लचीलापन देते हैं।पर सरकार इनका पूर्ण लाभ लेने में विफल रही है।हालाँकि भारत अभी बेहतर स्थिति में है पर सही सुझावों को न अपनाने की दशा में वह स्थायी विकास नहीं कर सकेगा।

भारत सरकार ने अर्थव्यवस्था में जान फूँकने के लिए जून 2020 में 20,000 करोड़ यानि 3 बिलियन अमेरिकी डॉलर के आर्थिक प्रोत्साहन की घोषणा की।इससे छोटे और मध्यम व्यवसाय को समर्थन एवं कृषि क्षेत्र के लिए निश्चित और कोयले के लिए पर्याप्त आर्थिक समर्थन का भरोसा मिला है। अर्थव्यवस्था को फिर से खड़ी करने के प्रयास में  भारत के सामने जवाबदेही अपने भौतिक और सामाजिक बुनियादी ढाँचे के लचीलेपन में सुधार लाते हुए स्थिर अर्थव्यवस्था देने की है।

देश को प्रदूषण मुक्त करने की तरफ़ बढ़ते हुए भारत को उद्योगों में अपनी निर्भरता तेज़ी से जीवाश्म (फॉसिल) ईंधन की जगह रिन्यूएबिल  और स्वच्छ ऊर्जा पर बढ़ानी होगी।

5 ट्रिलियन $ की अर्थव्यवस्था के लक्ष्य वाले देश के लिए स्थायी विकास को देखते हुए अपनी नीति और निवेश को सामाजिक,आर्थिक और पर्यावरण के अनुकूल बनाना ही समझदारी होगी।

हम एक वेबिनार की श्रृंखला का आयोजन कर रहे हैं जिसका उद्देश्य भारत में ग्रीन इकोनॉमिक रिकवरी के लिए निवेश के उन आयामों की खोज करना है जो हर भारतीय के लिए एक लचीला,स्वच्छ नवीकरणीय ऊर्जा से भरपूर समग्र आर्थिक विकास हो।इन चर्चाओं का उद्देश्य आर्थिक सामाजिक और पर्यावरणीय क्षेत्रों में राष्ट्रीय और क्षेत्रीय स्तर की बौद्धिक आवाज़ों को बल देना है।


🌏जलवायु विज्ञान, जलवायु नीति, वायु प्रदूषण, साफ ऊर्जा और बैटरी वाहनों समेत तमाम ख़बरों के लिए, नीचे क्लिक कर हमारा पाक्षिक न्यूज़लेटर सब्सक्राइब करें 👇🏽

#AirPollution
▶️विकासशील देशों में खाना पकाने के दौरान अन्य लोगों को अनावश्यक रूप से रसोई घर में नहीं रहना चाहिए।

▶️ खाना पकाने से 60 घरों में कार्बन डाइऑक्साइड के स्तर मे औसतन 2%त की वृद्धि हुई।

https://hindi.carboncopy.info/co2-levels-rise-22-per-cent-during-cooking-in-homes-in-low-income-countries/

गांधी के जन्मदिन पर याद करें कि पर्यावरण को बचाने और जलवायु परिवर्तन से लड़ने के लिये सादगी से जीवन जीने और उपभोग को कम करने के अलावा कोई रास्ता नहीं है। विलासिता और उपभोक्तावाद बढ़ते कार्बन उत्सर्जन के पीछे मुख्य कारण हैं।
#GandhiJayanti2022

हम हिन्दी भाषा में पर्यावरण, जलवायु परिवर्तन, साफ ऊर्जा, बैटरी वाहनों और जीवाश्म ईंधन की ख़बरों को एक न्यूज़लेटर की शक्ल में तैयार करते हैं। अपने इनबॉक्स में ये न्यूज़लेटर पाने के लिये कमेंट सेक्शन में अपना ई मेल आईडी बतायें। हम आपको हर पखवाड़े ख़बरों का ये पिटारा भेजेंगे।

नामीबिया से अफ्रीकी चीतों को भारत आये हफ्ता भर होने को है और इसे लेकर अब भी बहस गर्म है क्या भारत में इन्हें अनुकूल इकोसिस्टम मिलेगा? यहां जिस वातावरण में ये चीते छोड़े गये हैं क्या उसमें वह ढल पायेंगे?
पढ़िए @hridayeshjoshi की ख़ास रिपोर्ट

#Cheetah
https://hindi.carboncopy.info/the-home-built-for-asiatic-lions-turned-into-a-shelter-for-african-cheetahs/

Load More